एकतरफा तलाक लेने का पुरा कानूनी प्रक्रिया हिंदी में

जब भी वैवाहिक जीवन में काफी नोकझोंक होने लगता है और पति पत्नी को एक साथ रहना मुश्किल हो जाता है तो ऐसे परिस्थिति में एक ही रास्ता बचता है कि डाइवोर्स लेकर दोनों पति-पत्नी एक-दूसरे से अलग हो जाए। आज की इस पोस्ट में हम लोग एकतरफा डाइवोर्स लेने का पूरा कानूनी प्रक्रिया को समझेंगे और साथ ही साथ यह भी बात करेंगे कि आप तलाक जल्दी में कैसे ले सकते हैं।

तलाक का ग्राउंड 

तलाक लेने में सबसे बड़ा मुद्दा होता है कि आप किस आधार पर तलाक ले रहे हैं। यानी कि आपको तलाक का कारण देना जरूरी है। यदि आप तलाक का कारण नहीं देते हैं तो कोर्ट ऐसे में आपका केस को खारिज कर देगा। आपको तलाक का जो भी ग्राउंड देना है ,मजबूत ग्राउंड दें ताकि आपको तलाक जल्दी में मिल सके। यदि आप मजबूत ग्राउंड  के आधार पर तलाक नहीं लेते हैं और कोई छोटा-मोटा बात लिखते हैं तलाक के आधार का कारण तो ऐसी परिस्थिति में आप का केस खारिज हो जाएगा और आपको तलाक भी नहीं मिलेगा नीचे कुछ महत्वपूर्ण तलाक का कारण बताया गया है

तलाक का मजबूत ग्राउंड 

(1) यदि आपकी पत्नी किसी दूसरे व्यक्ति से किसी प्रकार का सेक्सुअल रिलेशनशिप में है तो यह भी एक मजबूत तलाक का  आधार हो सकता है।
(2) यदि आपकी पत्नी आपके माता-पिता से अलग करने का बात कर रही है और इस बात पर हमेशा आपसे लड़ते झगड़ते रहती है तो यह भी तलाक एक मजबूत आधार बन सकता है।

(3) यदि आपकी पत्नी आप से 2 साल या इससे ज्यादा समय से दूर रह रहा है और इस बीच यदि आप दोनों के बीच किसी प्रकार का कोई फिजिकल रिलेशनशिप नहीं बना है तो यह भी एक तलाक का आधार हो सकता है।
(4) यदि आपकी पत्नी मायके में जाकर बैठ गई है और वह नहीं आना चाहती हैं और ऐसे में यदि आप सेक्शन 9 का केस फाइल की है और इसका जजमेंट यदि आपके पक्ष में है तो यह भी तलाक का एक मजबूत आधार हो सकता है।
    इसी प्रकार का और भी आप तलाक का मजबूत आधार बना सकते हैं, जिससे आपको जल्दी में तलाक मिल सके । यदि आप मजबूत आधार नहीं देंगे तो आपका तलाक का केस काफी लंबा चलेगा और आप काफी परेशानी में फंस सकते हैं।

तलाक का सबूत 

आप जो भी तलाक का आधार बनाते हैं, सिर्फ आपको आधार बनाने से ही तलाक नहीं मिलेगा। आपने जो भी आधार बनाया है उसे साबित भी कोर्ट के अंदर करना होगा। यदि आप साबित नहीं कर पाएंगे तो आपका केस कोर्ट खारिज कर देगा। यह साबित करने के लिए आप कोई सबूत दे सकते हैं। सबूत के तौर पर कोई ऑडियो रिकॉर्डिंग या कोई वीडियो रिकॉर्डिंग या फिर और भी कोई अन्य साक्ष दे सकते हैं। साथ ही आप सबूत के तौर पर अपने परिवार को या आप अपने कोई रिश्तेदार को भी गवाही के तौर पर कोर्ट में पेश कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Need Help? Chat with us