माँ का जमीन एक भाई अपने नाम रजिस्ट्री करवा लिया

आजके इस पोस्ट में हमलोग बात करेंगे कि माँ के नाम का जमीन एक भाई अपने नाम रजिस्ट्री करवा लिया है तो दूसरा भाई को उस प्रॉपर्टी में हिस्सा मिलेगा या नहीं। यदी हिस्सा मिलेगा तो कैसे मिलेगा क्या कहता है कानून। आजकल समाज में बहुत सारा ऐसा मामला देखने को मिलता हैं कि जो भाई माँ के साथ रहता है माँ उसके नाम जमीन रजिस्ट्री कर देती हैं। और जो भाई बाहर रहता हैं उसके रजिस्ट्री के विषय में कोई जानकारी नहीं रहता हैं। आजके इस पोस्ट में मैं इस विषय के बारे में पूर्ण जानकारी दिया हूँ। साथ ही कुछ महत्वपूर्ण पोस्ट का लिंक भी दिया हूँ उस लिंक पर किल्क करके आप ज्यादा जानकारी प्राप्त कर सकते। (यह भी पढ़े:- एक प्रॉपर्टी दो बार रजिस्ट्री कानूनी उपाय)

माँ का प्रॉपर्टी में हिस्सा मिलेगा

एक भाई के नाम रजिस्ट्री

यदी माॅ किसी एक भाई के नाम जमीन रजिस्ट्री करती हैं तो यह कुछ परिस्थिति में कानूनन मान्य होगा और कुछ परिस्थिति में कानूनन मान्य नहीं होगा। आजकल समाज में ऐसा बहुत ज्यादा देखा जाता है कि अधिकांश लोग महिला के नाम से प्रॉपर्टी खरीदना बहुत पसंद करते हैं। क्योंकि महिला के नाम प्रॉपर्टी खरीदने पर रजिस्ट्री के समय तो कम पैसा लगता ही है साथ ही साथ उस प्रॉपर्टी पर ॠण भी बहुत ज्यादा मिल जाता हैं। यही लालच के कारण ज्यादा लोग प्रॉपर्टी का रजिस्ट्री महिला के नाम से कराता है। यदी माॅ जो जमीन एक बेटे के नाम रजिस्ट्री करती हैं यदी वह जमीन माॅ के द्वारा स्वयं अर्जित किया गया है तो ऐसे परिस्थिति में दूसरा भाई का उस प्रॉपर्टी पर किसी प्रकार का कोई अधिकार नहीं होगा। लेकिन यहाँ पर यह कंडीशन् होना चाहिए कि वह प्रॉपर्टी माॅ ने खुद अर्जित किया है। ( यह भी पढ़े:- धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कैैसे करें)

कब होगा दूसरा भाई का अधिकार

यदी माॅ अपने नाम् का प्रॉपर्टी कोई एक बेटे के नाम से रजिस्ट्री करती हैं तो यह रजिस्ट्री तब मान्य नहीं होगा जब वह प्रॉपर्टी पिता का पैसा से अर्जित किया गया है। साथ ही यदी माॅ सिर्फ घर का कामकाज करती हैं तो ऐसे परिस्थिति में यदी कोई भाई के नाम से प्रॉपर्टी लिखती हैं तो यह रजिस्ट्री का कोई भी मान्य नहीं होगा। यदी माॅ घर का कामकाज करती हैं तो यह स्वाभाविक है कि उस प्रॉपर्टी को स्वयं माॅ के द्वारा अर्जित नहीं किया गया है। यदी माॅ कहीं पार्ट टाइम जॉब करती हैं या फुल टाइम जाॅब करती हैं या कोई बिज़नेस करती है तभी यह संभव हो सकता है कि माँ स्वयं का पैसा से कोई प्रॉपर्टी बनाई हैं। यदी सिर्फ़ घर का कामकाज करती हैं तो वह प्रॉपर्टी बनाने में पिता का पैसा लगा हो सकता है या फिर परिवार के सभी अन्य सदस्य का। (यह भी पढ़े:- रजिस्ट्री कैसे रद्द करें)

रजिस्ट्री कैंसिल कैसे करें

यदी माॅ का स्वयं का पैसा से अर्जित प्रॉपर्टी नहीं है और उस प्रॉपर्टी को माॅ किसी एक बेटा के नाम से रजिस्ट्री करती हैं तो यह कानूनन अमान्य होगा। यहाँ पर चाहिए कि जो अन्य भाई है जिसको प्रॉपर्टी में हिस्सा नहीं मिला है उसे न्यायालय में पार्टीशन सूट का मुकदमा दर्ज करना होगा। पार्टीशन सूट का मुकदमा दर्ज करते ही स्टे ऑर्डर का भी प्रार्थना करना चाहिए। स्टे ऑर्डर क्या है? इसके बारे में पहले ही पोस्ट इस वेबसाइट पर प्रकाशित हैं उसे आप देख सकते हैं। एक बार स्टे ऑर्डर मिल जाने के बाद माँ के नाम का प्रॉपर्टी जो भाई रजिस्ट्री करवा लिया है उस प्रॉपर्टी पर किसी भी प्रकार का कोई निर्माण नहीं कर पाएंगे। ना ही घर बना पाएगा और नहीं ही उस प्रॉपर्टी के साथ किसी प्रकार छेड़छाड़ कर पाएंगे यदी वो ऐसा करता है तो यह कानूनन अपराध होगा। (यह भी पढ़े:- स्टे ऑर्डर क्या है और कैसे मिलेगा)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *